Karnataka Election Results 2018 : BJP की हुई शानदार जीत

कर्नाटक के चुनाव में BJP की जीत पर काफी संशय हो रहे थे, लेकिन आखिरकार BJP की जीत हो गई|

 Karnataka Election Results 2018 :  BJP की हुई शानदार जीत

कांग्रेस के मीडिया एजेंट नई-नई अफवाह फैलाते थे, कभी बोलते कांग्रेस अपने दम पर सरकार बनाएगी, कभी कहते कांग्रेस जीडीएस के साथ मिलकर लेकिन आखिरकार अब बीजेपी अपने दम पर सरकार बनाएगी|


कर्नाटक ऐसा राज्य है जहां बीजेपी का 50 से 60 के बीच में सीटों का अनुपात रहता था लेकिन इस बार भारतीय जनता पार्टी ने रिकॉर्ड तोड़ दिया| कांग्रेस का राज्य किनारे करके भारी मतों से विजय प्राप्त की|


बीजेपी के चाणक्य कहे जाने वाले अमित शाह ने दावा किया था की कर्नाटक में बीजेपी की बहुमत की सरकार बनेगी|



भारतीय जनता पार्टी के चाणक्य अमित शाह ने कांग्रेस का किला गिरा दिया कर्नाटक से कांग्रेस का पत्ता साफ कर दिया। राज्य में बीजेपी अपने बलबूते पर सरकार बना सकती है कर्नाटक में जीत के बाद नेताओं ने कहा कि यह हमारे कार्यकर्ताओं की समर्पण की जीत है|




कर्नाटक की जनता बीजेपी पर भरोसा जता रही है और बीजेपी बहुमत के साथ सरकार बनाने जा रही है इसी बीच CM के पद के नाम पर मोहर लगाने के लिए संसदीय दल की बैठक होगी जिसमें औपचारिक तरीके से येदियुरप्पा के नाम पर हरी झंडी दिखा दी जाएगी|




सोशल मीडिया पर कांग्रेस और राहुल गांधी को चौतरफा घेरा जा रहा है लोग कमेंट कर रहे हैं कि चलो कर्नाटक से कांग्रेस की सत्ता जाने के बाद अब राहुल गांधी को चैन की सांस मिली क्योंकि  उन्हें विश्वेश्वरैया नहीं बोलना पड़ेगा|

कर्नाटक चुनाव मतगणना जारी: बीजेपी सबसे आगे \ Karnataka Elections Countdown Continues: BJP Forward

 कर्नाटक चुनाव मतगणना जारी:  बीजेपी सबसे आगे
कर्नाटक विधानसभा के चुनाव के लिए मतगणना जारी है और मतगणना के अनुसार बीजेपी आगे चल रही है|

कर्नाटक में 12 मई शनिवार को 222 सीटों पर मतदान हुआ था चुनाव कार्यालय के मुताबिक अब मतगणना 40 केंद्रों पर सुबह 8:00 बजे शुरू हुई है और चुनाव के परिणाम देर शाम तक स्पष्ट कर दिए जाएंगे|



वैसे चुनावी परिणाम के लाइव बॉल को देखते हुए बीजेपी सबसे आगे चल रही है दूसरे नंबर पर आईएमसी जीडीएस तीसरे नंबर पर है 40 से 50 सीटों के बीच में जीडीएस है BJP 90 सीटों के ऊपर चल रही है


देर शाम तक सुनिश्चित हो जाएगा कि किस पार्टी की कर्नाटक चुनाव में विजय हुई| पूरी तरह से लगता तो यही है कि BJP की जीत होगी| और कांग्रेस ने जो फूट डालो की नीति चली थी और लिंगायत समुदाय के हिंदुओं को हिंदू धर्म से अलग करने की जो चाल चली थी शायद वह असफल हो जाएगी| कर्नाटक में बीजेपी की विजय होगी|

कर्नाटक में बीजेपी को 60 सीट से ऊपर आज तक नहीं मिली थी इस बार BJP 100 सीटों तक पहुंच चुकी है यह एक बहुत बड़ी बात है| और कांग्रेस को 70 सीटों पर छोड़ दिया है| जीत बीजेपी की होगी|

परिणाम घोषित होने के बाद हम आपको जानकारी देंगे इसलिए नीचे के लिंक पर अपना ईमेल डाल कर सब्सक्राइब कर दें ताकि आपको पता चल जाए|

इंदौर 14 महीने की बच्ची के साथ दुष्कर्म करने वाला पकड़ा गया, अब फांसी की सजा

यह खबर है इंदौर की, जहां राजवाड़ा में एक व्यक्ति ने 14 महीने की छोटी सी बच्ची के साथ अमानवीय कृत्य किया था| बहुत ही दुखद खबर है यह कोई भी साधारण व्यक्ति जिसे अपनी बहन बेटी माताओं से प्रेम होगा वह ऐसे क्रूरता भरे काम नहीं कर सकता है|

 दुष्कर्म करने वाला पकड़ा गया था, अब फांसी की सजा

लेकिन उस व्यक्ति ने ऐसा किया| और इस पर राज्य सरकार ने करते हुए कड़ी कार्यवाही करते हुए मात्र 22 दिनों में व्यक्ति की सजा का ऐलान कर दिया| अब आप जानते हैं नए कानून के अनुसार इस व्यक्ति को क्या सजा मिलने जा रही है|

कानून के अनुसार मिलेगी फांसी

मोदी सरकार के नए कानून का उद्घाटन हो चुका है| अगर आपको जानकारी नहीं तो मन में सवाल जरूर होगा कि हम कौन से कानून की बात कर रहे हैं| हम बात कर रहे हैं बच्चों के साथ हो रही अपराधिक घटनाओं को रोकने के लिए बनाए हुए कानून का| यह तो आपको ही पता होगा नरेंद्र मोदी ने कानून बनाया था कि 12 साल से कम उम्र की बच्चियों के साथ दुष्कर्म करने वाले को फांसी की सजा दी जाएगी|


प्रशासन ने 22 दिनों के अंदर ही मामले की छानबीन कर, अपराध की पुष्टि करके| अपराधी की सजा का ऐलान कर दिया है| जल्द ही निश्चित समय पर उसे फांसी दी जाएगी|


अच्छी बात तो यह है कि अबकी सरकार किसी एक जाति विशेष का समर्थन करने वाली नहीं है इंसानियत का समर्थन करती है और इस का जीता जागता सबूत आप देख सकते हैं आज तक कभी किसी बलात्कारी और दुष्कर्म करने वाले व्यक्ति को उसके अपराधों के लिए कड़ी सजा नहीं दी गई थी| यहां तक की पिछली सरकार के शासनकाल में आतंकवादी तक को फांसी की सजा नहीं दी जाती थी आतंकवादी का समर्थन किया जाता था|


शायद आपको याद होगा कांग्रेस के गुलाम नबी ने आतंकवादी कसाब की फांसी का विरोध किया था| लेकिन अब वक्त बदल रहा है और हम इस बदलते वक्त का समर्थन करते हैं| उम्मीद है आप भी कर रहे होंगे|

Facebook is launching new feature, in the days of infamy

You know, Facebook has been facing a lot of defamation for a few days. There are many reasons for this. First of all, give user data to Cambridge Analyst company working for Congress. Using which Cambridge Analyst promotes Congress in India. This was fiercely opposed because Cambridge Analyst promoted its client by sending fake news to the public.

 Facebook is launching new feature, in the days of infamy


Facebook, who is facing such criticisms, wants to remove people's attention from these reports and so Facebook is launching new features right now. By which people stop criticizing him, focus on new features. And the image of Facebook will be cured again.

That's why Facebook launched a new feature. In this new Facebook feature, Facebook's user will now be able to recharge their mobile phones. That is, you will now be able to easily recharge your phone. With Facebook you can recharge any operator's SIM card. And the amount of recharge will be taken from your bank account. For this, you can use a debit card or a credit card.

Questions arising on the new feature

There are questions on Facebook's new feature too. Because that could not keep the simple data safe of Facebook people. How can a user give details of his bank by relying on it? The question is very reasonable. Even if your credit card and debit card is sold to anyone in Facebook. Then you may have a lot of problem.

Beware of Facebook's Payment Service

If you are going to use the Facebook Cash Payment feature then you need to be careful because if you have given OTP to Facebook, you may be charged more than the amount you are recharging. Or your entire bank can be emptied. Because the OTP of the bank gives you access to your account for a while. So be careful and avoid mistakes.

कर्नाटक प्रचार का अंतिम दिन : तोड़ो-जोड़ो राजनीति Last day of Karnataka promotion: Break-up Politics

कर्नाटक के चुनाव प्रचार का आखिरी दिन है, और सब के दिल में हलचल है कि 12 मई को चुनाव होने के बाद कौन जीतने वाला है| वैसे ही हमेशा भी काफी शानदार है हलचल होनी ही चाहिए एक तरफ नरेंद्र मोदी का ब्रांड लोगों के हृदय में नरेंद्र मोदी का प्रेम है और दूसरी और वहीं कांग्रेस की बांटने वाली राजनीतिक चाल|

कर्नाटक प्रचार का अंतिम दिन : तोड़ो-जोड़ो राजनीति



होने लगी है तोड़ो और जोड़ों की राजनीति


कर्नाटक के चुनाव में एक पार्टी लोगों को तोड़ने का काम कर रही है यानी कि जनता में फूट डालने का काम कर रही है| वहीं दूसरी पार्टी लोगों को जोड़ने के लिए सत्ता कुर्बान करने को तैयार है| एक पार्टी का लक्ष्य है कि कैसे भी करके कर्नाटक की सत्ता में टिकी रहे और वहीं दूसरी पार्टी कर लेते कि भले ही वह सत्ता में ना आ पाए लेकिन कर्नाटक के लोग धर्म और जाति के नाम पर टूटने ना पाए|

जी हां शायद आपको पता ही होगा कि कांग्रेस ने कर्नाटक चुनाव में बाजी पलटने के लिए लिंगायत समुदाय को हिंदुओं से अलग धर्म बनाने का प्रस्ताव पेश किया है| यानी कर्नाटक में चुनाव जीतने के लिए कांग्रेस फिर से फूट डालो और राज्य करो की नीति पर उतर चुकी है| यह कांग्रेस की पूर्वजों से चली आ रही नहीं थी अब कांग्रेस ने लिंगायत समुदाय को लालच दिया है कि अगर कर्नाटक में वापस कांग्रेस की सरकार बनती है तो कांग्रेस लिंगायत समुदाय को अलग धर्म का दर्जा देंगे|



लालच देकर वोट बैंक बनाने का तरीका


अब आप इस पर विचार जरूर कर रहे होंगे कि अभी तक तो कर्नाटक में कांग्रेस की ही सरकार थी अगर उसका लिंगायत समुदाय से प्रेम इतना ही था तो उसने अब तक लिंगायत समुदाय को धर्म का दर्जा क्यों नहीं दिया था| आप समझ गए होंगे कि कांग्रेस इस बार लिंगायत समुदाय को यह ऑफर क्यों दे रही है क्योंकि इस बार नरेंद्र मोदी ने कर्नाटक को जीतने पूरा निश्चय कर लिया है इससे घबरा चुकी कांग्रेस लिंगायत समुदाय को लालच देकर अपना वोट बैंक बनाना चाहती है|

फिर भी BJP ने तो शुरूआत से ही कहा है कि भले उसको कर्नाटक में जीत मिले या ना मिले लेकिन वह धर्म को टुकड़ों में बांटने नहीं देगी| कांग्रेस हमेशा से फूट डालो की नीति करती आई है इसी का परिणाम है कि यह देश पहले पाकिस्तान में विभाजित हुआ फिर बांग्लादेश बना, आसाम से हिंदू निकाल दिए गए, कश्मीर से हिंदू निकाल लिए गए क्योंकि कांग्रेस को वोट बैंक के लिए वामपंथियों को बढ़ावा देती रही| इसीलिए बीजेपी ने और नरेंद्र मोदी ने बस केवल इतना ही निश्चय किया है कि वह टुकड़ों में बढ़ चुके देशवासियों को आपस में जोड़ने का काम करेंगे कांग्रेस की तरह सत्ता का लालच भारतीय जनता पार्टी को नहीं यह आप पिछले कई वर्षों के BJP के अनुभव को देख सकते हैं|

इसलिए कर्नाटक के चुनाव में BJP का मुद्दा सत्ता में आना नहीं बल्कि टूटते हुए भारतीय संस्कृति को बचाना है| इसको कांग्रेस क्षत-विक्षत करने में लगी हुई है|

कांग्रेस की राज करने की नीति को आपको एक वीडियो के माध्यम से दिखाना चाहिए| आपको वीडियो में दिखाना चाहेंगे कि कैसे नरेंद्र मोदी के विरोध के लिए देश विरोधी घटनाएं करने तत्पर है| कांग्रेस को नरेंद्र मोदी से विरोध कम है लेकिन भारत से बहुत ज्यादा है| कांग्रेस एक ऐसी पार्टी है जो भारत के लोगों को केवल गुलाम बनाना पसंद करती है, और इसके लिए कुछ भी कर सकती है यानी कि भारत पर राज्य करने के लिए वह किसी भी हद तक गुजर सकती है|

See: वह वीडियो जिसमें राहुल गांधी भारत की बुराई कर रहे हैं

वीडियो लॉन्ग था लेकिन इसमें आगे के हिस्से में विदेशों में राहुल गांधी की भारत के लिए जो शक्ल होती है वह दिखाई गई है जब राहुल गांधी भारत से बाहर होते हैं | तब भारत विरोध में भाषण देते हैं और जब भारत के अंदर होते हैं तब हिंदू विरोध में भाषण देते हैं यानी कि हर प्रकार से देश विरोधी गतिविधियों का पूर्ण रुप से समर्थन करने के लिए तत्पर रहते हैं|

तीन तलाक़ क्या है इस्लाम में | What is Teen Talaq in Islam?

अगर आप भारत में रहते हैं तो आपने जरूर कभी न कभी teen talaq का नाम जरूर सुना होगा. तीन तलाक(Teen Talaq) बुराइयों का प्रतीक है.

teen talaq  तीन तलाक़ क्या है

महिलाओ का घर उजाड़ने वाली मान्यता 

ऐसी मान्यता है इस्लाम के संचालको द्वारा मुस्लिम लोगो पर जबरन थोपी गयी है तीन तलाक़ के इस नियम में महिलाओ के साथ कुछ एसा किया जाता है जिससे उनका सब कुछ बिखर जाता है.
अपने सुना होगा अगर किसी हिन्दू परिवार में पति-पत्नी में झगड़ा होता है या पति अपनी पत्नी से दुर्व्यव्हार करता है या उससे मरता पीटता है तो पत्नी मायके चली जाती है या फिर अपने परिवार वालो से शिकायत करती है और फिर कुछ समय बाद पति उसे मनाकर वापस ले आता है.

मगर islam में महिलाओ के साथ कुछ ऐसा कर दिया जाता है जिससे उनका सब कुछ उजड़ जाता है यानि की आप समझ सकते है. इस्लाम में अगर औरत-आदमी की लड़ाई हो जाती है और अगर आदमी का पत्नी से मन भर चूका होता है तो वह आसानी से उससे घर से निकल देता है और वो भी केवल चंद शब्द बोलकर.

ये वही शब्द होते है जिन्हे तीन तलाक़ कहते है. मुस्लिम पुरुष तो आसानी से तीन बार तलाक़-तलाक़-तलाक़ कह कर अपनी औरतो को घर से बाहर फेक देते है लेकिन उस औरत पर क्या गुजरती है ये कोई मुस्लिम नहीं सोचता है.

तलाक़ तलाक़ तलाक़ कहकर औरतो को बर्बाद करने का इस्लामी तरीका

जब भी मुस्लमान का मन हो वो आसानी से तीन बार तलाक़ कह कर औरत को छोड़ सकता है तो अपने देखा बहुत ही आसानी से औरत की जिंदगी बर्बाद की जा सकती है इस्लाम में.

मुस्लिम मौलवी कहते है की औरत को हवस की चीज समझो

मुस्लिम मजहब यानि की इस्लाम में लोग औरतो को कोई इज़्ज़त नहीं देते है, मौलवी औरतो को केवल हवस की मानते है और बाकि मुसलमानो से भी यही कहते है की औरतो को हवस की चीज समझो और इसी विचारधारा के अनुसार चलते हुए मौलवियों ने तीन तलाक़ का नियम बनाया हुआ है की जब किसी मुस्लिम आदमी का मन उसकी पत्नी से भर जाये तो वो केवल तलाक़ तलाक़ तलाक़ कह कर उससे घर से भगा सकता है.

भारत भर में कई आएसी घटनाये सामने आयी है जिनमे औरतो को केवल तलाक़ इसलिए दे दिया गया क्यूंकि उनका पति दूसरी Nikah करने जा रहा था और उसे उसके घर में दूसरी पुरानी पत्नी नहीं चाहिए थी.

अब आप समझ सकते है इस्लाम में तीन तलाक़ क्या है ये वो आसान से शब्द है जिससे बोलकर मुस्लमान एक मासूम औरत का इस्तेमाल करने के बाद उसे सड़क पर भटकने के लिए छोड़ देता है.

Islam में इस तरह की हजारो छोटी और हजारो इससे भी बड़ी बुराईया है जो केवल और केवल औरतो को प्रताड़ित करने के लिए बनायीं गयी है.

इस्लामिक आतंकवाद - जिहादियों ने की Lakho की हत्या | Islamic Atankwaad

 मुसलमानों का आतंक,  हिंदू और अन्य धर्मों के साथ हो रहा अन्याय| हमेशा से अपने देश में किसी भी डिबेट किसी भी भाषण में हमेशा सुना होगा भारत सभी धर्मों का सम्मान देने वाला देश है मगर क्या सच में सब को सम्मान मिलता है, इसका सच आपको पता चल जाएगा|

 Islamic Atankwaad


आप अगर सच जानेंगे, चौक जायेंगे दरअसल ना हिंदू मुसलमान का विरोध कर रहा होता है ना ही इसाई मुसलमान का विरोध कर रहा था और ना जैन धर्म मुस्लिमों का विरोध कर रहा होता है बल्कि खुद मुसलमान हिंदुओं के धर्म का विरोध कर रहे होते हैं उनकी धार्मिक आस्था को चोट पहुंचा रहे होते है.

कांग्रेस की शय में फलता-फूलता इस्लामिक आतंकवाद

इस्लामी आतंकी मुसलमानों द्वारा कश्मीर में हजारों हिंदुओं की हत्या की गई, हिंदुओं की औरतों को जबरन उठा लिया गया| हजारों हिंदू मर चुके थे जान बचाने के लिए बाकी कश्मीर छोड़ कर भाग उठे| उनके घरों पर इस्लामिक कब्जा कर लिया उस वक्त कांग्रेस की सरकार थी दुख की बात यह है कि कांग्रेस ने इस्लामिक आतंकवादियों का समर्थन किया और उन्हें हिंदुओं के घरों पर कब्जा दे दिया हिंदुओं की औरतों के साथ जबरन निकाह करने पर भी मंजूरी दे दी| कश्मीर में हिंदुओं के साथ निर्दयता की गई|

हिंदू धर्म को खत्म करने की नीव भर रहे हैं इस्लामिक आतंकी

अगर आप हिंदू हैं  तो आपने हमेशा देखा होगा  कि मुसलमानों की चादर चढ़ाने वाले लोग मुस्लिमों का हरा झंडा लेकर आपके मोहल्ले में आकर पैसे मांगते हैं अपने अल्लाह की गान करते हैं और हिंदू लोग उन्हें चादर चढ़ाने के लिए पैसे भी देते हैं  लेकिन क्या आपने कभी देखा है मुसलमानों की बस्ती से कोई हिंदू हिंदू धर्म स्थान पर चढ़ावे के लिए पैसे मांगता है, शायद आपने ऐसा कभी नहीं देखा होगा|  क्या आप जानते हैं इसका विशेष कारण क्या है क्योंकि हिंदू चढ़ावे के लिए पैसे मुसलमान देना तो दूर मुस्लिमों की बस्ती में अपने भगवान की जयकार भी नहीं लगा सकता|  भगवा झंडा लेकर मुसलमानों की बस्ती में नहीं जा सकता क्योंकि अगर ऐसा करेगा तो मुसलमान उसे खत्म कर देंगे या फिर दंगा हो जाएगा यह है मुस्लिम आतंक|


 मुसलमान केवल अपने मुस्लिम धर्म को बढ़ावा देते हैं और बाकी सब को खत्म करने में  लगे हैं|  जानते हैं अहमदाबाद में अगर कोई अकेला हिंदू जय श्री राम की जय कार लगाता है तो ज्यादा देर नहीं लगती मुसलमान उस पर हमला कर देते हैं लेकिन हिंदू इतना दयावान है हिंदुओं के मोहल्ले में मुसलमान अल्लाह की जय जयकार करते हैं अल्लाह का झंडा लेकर मुसलमान हिंदुओं के मोहल्ले में घूमते हैं लेकिन हिंदू उन को नहीं रोकता|



 जिन क्षेत्रों में मुस्लिम बहुल होते हैं वहां पर मुसलमानों के दबाव से वही की सरकार हिंदुओं के पूजन पर प्रतिबंध लगा देती है मंदिरों को बंद करा दिया जाता है| लेकिन जहां पर हिंदू बहुल क्षेत्र होता है वहां पर मुसलमानों को पूरी आजादी होती है वह अपने मजहब से जुड़े कार्यक्रम कर सकते हैं|  आपको अजीब नहीं लगता|  यह भेदभाव कैसा है|  हिंदू बहुल क्षेत्रों में मुसलमान जबरन अपनी मस्जिद के कार्यक्रम के लिए हिंदुओं से भी चंदा लेने आते हैं|  लेकिन  हिंदू उनसे चंदा नहीं ले सकता अगर नहीं जाता है तो मुसलमान उस पर हमला कर देते है और हिंदुओं को गालियां देते हैं|  और  मुसलमानों से चंदा लेना तो बहुत दूर की बात है हिंदू मुसलमानों के बहुल क्षेत्र में अपने भगवान का पूजन भी नहीं कर सकता|

 यह कैसी विडंबना है कारण इसका केवल एक ही कारण है हिंदुओं ने जो मूर्खता कर रखी है यह मूर्खता बुद्धिमत्ता से आधारित नहीं|  यह मूर्खता है दया करने की स्थिति के लिए|   क्योंकि आप मुसलमानों को हिंदुओं के क्षेत्र में मुस्लिम आयोजन करने देते हैं लेकिन जब मुसलमान आप के आयोजन का विरोध करता है तब कोई भी हिंदू पूरे बल के साथ मुसलमानों को जवाब नहीं देता|


देश तोड़ने की चाल चलते हैं मुस्लिम आतंकी

 बहुत ही विचित्र स्थिति है आज के समय में क्या आपने कभी ध्यान दिया है  भारत से अलग होकर जितने भी देश बनी है सारे के सारे मुस्लिम देश हैं क्योंकि मुस्लिम राज्य में 2-4 परिवार बसते हैं धीरे धीरे 8 परिवार 10 परिवार होते जाते हैं और फिर उनका पूरा एक मोहल्ला बन जाता है और जब ऐसा होता है तब वहां के नेता को अपनी एकत्रित शक्ति का परिचय देते हैं और नेता को अगर वोट चाहिए होता है  तो नेता भी उन मुसलमानों को विशेष लाभ देने का वादा करता है|  यानी कि मुसलमानों का प्रभुत्व केवल 8-10 परिवार होने की वजह से भी ज्यादा हो जाता है और हिंदुओं का पूरा का पूरा क्षेत्र होने के बाद भी हिंदुओं की कोई इज्जत नहीं होती क्योंकि सारे अलग-अलग भागते हैं. कोई मायावती की वजह से दलित बनकर अलग हो जाता है कोई सिंह की वजह से यादव बनकर अलग हो जाता है.

 इस वजह से आप बंगाल में हिंदुओं की स्थिति देख सकते हैं वहां पर विभाजन होने के बाद से अब तक न जाने कितने अनगिनत हिंदुओं को मारा गया है और मरने वालों में सबसे ज्यादा दलित वर्ग के लोग हैं क्योंकि दलित वर्ग के लोग आसानी से बरगलाया जा सकता हैं  जैसे की वर्तमान समय मैं मायावती के द्वारा दलित मुस्लिम एकता इस बात का सबूत देती है कि किस प्रकार से दलितों को बरगलाया जा सकता है.  सभी दलित समझ नहीं पा रहे कि मायावती केवल राज्य करना चाहती हैं और इसीलिए उन्हें वोट बैंक में तब्दील करने के लिए मुसलमानों का दोस्त बनाया जा रहा है.

 पाकिस्तान का जब विभाजन हुआ तो वहां पर 23 परसेंट से ऊपर हिंदू रहते थे अब आप खुद सोचिए कि अगर मुसलमान सच में दलित हिंदुओं का अपना मित्र मानता है तो फिर पाकिस्तान के 23 परसेंट हिंदुओं को मारकर केवल 2% कैसे बना दिया मुसलमानों ने. आपके पास इस बात का जवाब नहीं है|

 अर्थ केवल यही है गलत होने पर विरोध तुरंत कीजिए अगर डर कर चुप हो जाएंगे आगे आपको वक्त भी नहीं मिलेगा  विरोध कर पाने का क्योंकि आपकी सांसे रोक दी जाएंगी इन जिहादी मुसलमानों के द्वारा|

 बाकी आप समझदार है--